Mohsin Asrar's Photo'

मोहसिन असरार

1948 | पाकिस्तान

मोहसिन असरार के शेर

1.2K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

आँख से आँख मिलाना तो सुख़न मत करना

टोक देने से कहानी का मज़ा जाता है

मैं बैठ गया ख़ाक पे तस्वीर बनाने

जो किब्र थे मुझ में वो तिरी याद से निकले

बहुत कुछ तुम से कहना था मगर मैं कह पाया

लो मेरी डाइरी रख लो मुझे नींद रही है

जवाब देता है मेरे हर इक सवाल का वो

मगर सवाल भी उस की तरफ़ से होता है

'मोहसिन' बुरे दिनों में नया दोस्त कौन हो

है जिस का पहला क़र्ज़ उसी से सवाल कर

वो मजबूरी मौत है जिस में कासे को बुनियाद मिले

प्यास की शिद्दत जब बढ़ती है डर लगता है पानी से

गुज़र चुका है ज़माना विसाल करने का

ये कोई वक़्त है तेरे कमाल करने का

हवा चराग़ बुझाने लगी तो हम ने भी

दिए की लौ की जगह तेरा इंतिज़ार रखा

अजीब शख़्स था लौटा गया मिरा सब कुछ

मुआवज़ा लिया देख-भाल करने का

जैसे सज्दे में क़त्ल हो कोई

ऐसा होता है चाहतों का मज़ा

तेरी ही तरह आता है आँखों में तिरा ख़्वाब

सच्चा नहीं होता कभी झूटा नहीं होता

तेरे बग़ैर लगता है गोया ये ज़िंदगी

तन्क़ीद कर रही है मिरी ख़्वाहिशात पर

बहुत अच्छा तिरी क़ुर्बत में गुज़रा आज का दिन

बस अब घर जाएँगे और कल की तय्यारी करेंगे

जगह बदलने से हैअत कहाँ बदलती है

जो आइना है सदा आइना रहेगा वो

घर में रहना मिरा गोया उसे मंज़ूर नहीं

जब भी आता है नया काम बता जाता है

डर है कहीं मैं दश्त की जानिब निकल जाऊँ

बैठा हूँ अपने पाँव में ज़ंजीर डाल कर

क्या ज़माना था कि हम ख़ूब जचा करते थे

अब तो माँगे की सी लगती हैं क़बाएँ अपनी

जिस दिन के गुज़रते ही यहाँ रात हुई है

काश वो दिन मैं ने गुज़ारा नहीं होता

जिस लफ़्ज़ को मैं तोड़ के ख़ुद टूट गया हूँ

कहता भी तो वो उस को गवारा नहीं होता

तू ख़ुद भी जागता रह और मुझ को भी जगाता रह

नहीं तो ज़िंदगी को दूसरा क़िस्सा पकड़ लेगा

हम अपने ज़ाहिर बातिन का अंदाज़ा लगा लें

फिर उस के सामने जाने की तय्यारी करेंगे

हम-साए का सुख तो उस के ख़्वाब का पूरा होना है

तुम पर रिक़्क़त तारी हो तो रो लो लेकिन शोर हो

ख़ुद को मैं भला ज़ेर-ए-ज़मीं कैसे दबाता

जितने भी खंडर निकले वो आबाद से निकले

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए