noImage

क़ैसर अफ़ग़ानी

शेर 1

सानी नहीं है कोई उस का जवाब है

मेरी पसंद है जो मिरा इंतिख़ाब है

  • शेयर कीजिए
 

Added to your favorites

Removed from your favorites