noImage

क़मर शीरानी

तुझे देखा नहीं है फिर भी तुझ से

मिरी अक्सर मुलाक़ातें रही हैं