noImage

राबिया पिन्हाँ

1906 | इलाहाबाद, भारत

ग़ज़ल 1

 

नज़्म 1

 

शेर 1

दीदनी है तिरे इ'ताब का रंग

शीशा-ए-चश्म में शराब का रंग

  • शेयर कीजिए
 

"इलाहाबाद" के और शायर

  • सुमन ढींगरा दुग्गल सुमन ढींगरा दुग्गल
  • बिस्मिल इलाहाबादी बिस्मिल इलाहाबादी
  • जाफ़र रज़ा जाफ़र रज़ा