This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
चराग़-ए-ज़ीस्त मद्धम है अभी तू नम न कर आँखें

रेनू नय्यर

धूप को कुछ और जलना चाहिए

रेनू नय्यर

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

  • चराग़-ए-ज़ीस्त मद्धम है अभी तू नम न कर आँखें

    चराग़-ए-ज़ीस्त मद्धम है अभी तू नम न कर आँखें रेनू नय्यर

  • धूप को कुछ और जलना चाहिए

    धूप को कुछ और जलना चाहिए रेनू नय्यर