noImage

शरफ़ुद्दीन इल्हाम

शरफ़ुद्दीन इल्हाम के शेर

अरी बेकसी तेरे क़ुर्बान जाऊँ

बुरे वक़्त में एक तू रह गई है