noImage

सय्यद मोहम्मद असर

1735 - 1794

शेर 2

दिन कटा जिस तरह कटा लेकिन

रात कटती नज़र नहीं आती

पहले सौ बार इधर उधर देखा

तब तुझे डर के इक नज़र देखा

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 1

दीवान-ए-असर

 

1930