ग़ज़ल 11

शेर 4

पढ़ चुके हैं निसाब-ए-तंहाई

अब लिखेंगे किताब-ए-तंहाई

समझ सका उसे मैं क़ुसूर मेरा है

कि मेरे सामने तो वो खुली किताब रहा

हक़ीक़तों से मफ़र चाही थी 'यशब' मैं ने

पर अस्ल अस्ल रहा और ख़्वाब ख़्वाब रहा

पुस्तकें 1

किताब-ए-तनहाई

 

2011

 

संबंधित शायर

  • आज़र तमन्ना आज़र तमन्ना भाई

"लंदन" के और शायर

  • हिलाल फ़रीद हिलाल फ़रीद
  • ख़ालिद यूसुफ़ ख़ालिद यूसुफ़
  • अतहर राज़ अतहर राज़
  • अख़्तर ज़ियाई अख़्तर ज़ियाई
  • सय्यद आशूर काज़मी सय्यद आशूर काज़मी
  • सुल्तान गौरी सुल्तान गौरी
  • ख़ालिद हसन क़ादिरी ख़ालिद हसन क़ादिरी
  • अकबर हैदराबादी अकबर हैदराबादी
  • शोहरत बुख़ारी शोहरत बुख़ारी
  • मीर बशीर मीर बशीर