Yasmeen Habeeb's Photo'

यासमीन हबीब

पाकिस्तान

ग़ज़ल 11

शेर 15

जो चला गया सो चला गया जो है पास उस का ख़याल रख

जो लुटा दिया उसे भूल जा जो बचा है उस को सँभाल रख

आते रहते हैं फ़लक से भी इशारे कुछ कुछ

बात कर लेते हैं हम से चाँद तारे कुछ कुछ

ख़ुद अपना साथ भी चुभने लगा था

अजब तन्हाई की आदत हुई थी