महात्मा गांधी पर 20 मशहूर नज़्में

महात्मा गांधी ऐसा नाम

है जिसने कवियों और लेखकों पर अपनी एक अमिट छाप छोड़ी है। भारत के राष्ट्रपिता जिन्हें हम प्यार से बापू कहते हैं, भारतीय स्वतन्त्रता आंदोलन और अपने सत्य और अहिंसा के सिद्धांतों की बदौलत उर्दू कवियों पर भी गहरा असर छोड़ने में सफ़ल रहे हैं। महात्मा गांधी के सिद्धांतों और उनके उपदेशों का प्रवाह उर्दू शायरी में किस प्रकार है इसका अंदाज़ा आप नीचे दी गई कविताओं से लगा सकते हैं।

1K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

सानेहा

दर्द-ओ-ग़म-ए-हयात का दरमाँ चला गया

असरार-उल-हक़ मजाज़

आह गाँधी

तिरे मातम में शामिल हैं ज़मीन ओ आसमाँ वाले

नज़ीर बनारसी

'गाँधी-जी' की याद में!

वही है शोर-ए-हाए-ओ-हू, वही हुजूम-ए-मर्द-ओ-ज़न

जिगर मुरादाबादी

महात्मा-ग़ाँधी

शब-ए-एशिया के अँधेरे में सर-ए-राह जिस की थी रौशनी

नुशूर वाहिदी

महात्मा-गाँधी का क़त्ल

मशरिक़ का दिया गुल होता है मग़रिब पे सियाही छाती है

आनंद नारायण मुल्ला

गाँधी जी

राहबर देश-भगती का वो

अबरार किरतपुरी

गाँधी जी

सच्ची बात हमेशा कहना

सय्यदा फ़रहत

महात्मा-गाँधी

सुना रहा हूँ तुम्हें दास्तान गाँधी की

बिस्मिल इलाहाबादी

गाँधी-जयंती पर

उठी चारों तरफ़ से जब कि ज़ुल्म-ओ-जब्र की आँधी

कँवल डिबाइवी

गाँधी

एक फ़क़ीर

साहिर होशियारपुरी

गाँधी-जी की आवाज़

सलाम ऐ उफ़ुक़-ए-हिन्द के हसीं तारो

नाज़िश प्रतापगढ़ी

गाँधी-जयंती

भूल गई है आज तो रहबर-ए-हक़-निगाह को

अर्श मलसियानी

गाँधी जी

वक़ार-ए-मादर-ए-हिन्दोस्ताँ थे गाँधी जी

कैफ़ अहमद सिद्दीकी

गाँधी के बा'द

बा'द गाँधी के न सुन हम ने समाँ देखा क्या

इज़हार मलीहाबादी

महात्मा-गाँधी

बापू ने हर इंसान को इंसाँ समझा

चरख़ चिन्योटी

बापू

बच्चो तुम ने बापू की तस्वीर तो देखी होगी

अताउर्रहमान तारिक़

गाँधी

शहीदों का सरताज जन्नत-मक़ाम

अर्श मलसियानी

महात्मा-ग़ाँधी

मुसाफ़िर-ए-अबदी की नहीं कोई मंज़िल

रविश सिद्दीक़ी

बापू

शोहरत है तेरी बापू हर सू मिरे वतन में

मसूदा हयात

हाए बापू तिरी दुहाई है

ख़ू-ए-आज़ाद जिस ने पाई है

कँवल डिबाइवी

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए