इब्न-ए-इंशा की नज़में

मिलिए उर्दू अदब के एक

अनोखे शायर से। ये उनकी नज़मों का कलेक्शन है। पढ़िए और महज़ूज़ होते रहिए।

16.4K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

फ़र्ज़ करो

फ़र्ज़ करो हम अहल-ए-वफ़ा हों, फ़र्ज़ करो दीवाने हों

इब्न-ए-इंशा

एक बार कहो तुम मेरी हो

हम घूम चुके बस्ती बन में

इब्न-ए-इंशा

सब माया है

सब माया है, सब ढलती फिरती छाया है

इब्न-ए-इंशा

इस बस्ती के इक कूचे में

इस बस्ती के इक कूचे में इक 'इंशा' नाम का दीवाना

इब्न-ए-इंशा

ये बातें झूटी बातें हैं

ये बातें झूटी बातें हैं ये लोगों ने फैलाई हैं

इब्न-ए-इंशा

एक लड़का

एक छोटा सा लड़का था मैं जिन दिनों

इब्न-ए-इंशा

कल हम ने सपना देखा है

कल हम ने सपना देखा है

इब्न-ए-इंशा

क्या धोका देने आओगी

हम बंजारे दिल वाले हैं

इब्न-ए-इंशा

लोग पूछेंगे

लोग पूछेंगे क्यूँ उदास हो तुम

इब्न-ए-इंशा

दिल इक कुटिया दश्त किनारे

दुनिया-भर से दूर ये नगरी

इब्न-ए-इंशा

दरवाज़ा खुला रखना

दिल दर्द की शिद्दत से ख़ूँ-गश्ता ओ सी-पारा

इब्न-ए-इंशा

लब पर नाम किसी का भी हो

लब पर नाम किसी का भी हो, दिल में तेरा नक़्शा है

इब्न-ए-इंशा

चाँद के तमन्नाई

शहर-ए-दिल की गलियों में

इब्न-ए-इंशा

घूम रहा है पीत का प्यासा

देख तो गोरी किसे पुकारे

इब्न-ए-इंशा

बिल्लू का बस्ता

छोटी सी बिल्लू

इब्न-ए-इंशा

ये कौन आया

'इंशा'-जी ये कौन आया किस देस का बासी है

इब्न-ए-इंशा

दिल पीत की आग में जलता है

दिल पीत की आग में जलता है हाँ जलता रहे उसे जलने दो

इब्न-ए-इंशा

पिछले-पहर के सन्नाटे में

पिछले पहर के सन्नाटे में

इब्न-ए-इंशा

झुलसी सी इक बस्ती में

हाँ देखा कल हम ने उस को देखने का जिसे अरमाँ था

इब्न-ए-इंशा

फिर शाम हुई

फैलता फैलता शाम-ए-ग़म का धुआँ

इब्न-ए-इंशा

ये सराए है

ये सराए है यहाँ किस का ठिकाना ढूँडो

इब्न-ए-इंशा

ऐ मिरे सोच-नगर की रानी

तुझ से जो मैं ने प्यार किया है तेरे लिए? नहीं अपने लिए

इब्न-ए-इंशा

मुन्नी तेरे दाँत कहाँ हैं

मुन्नी तेरे दाँत कहाँ हैं

इब्न-ए-इंशा

ऐ मतवालो! नाक़ों वालो!!

ऐ मतवालो नाक़ों वालो देते हो कुछ उस का पता

इब्न-ए-इंशा

कुछ दे इसे रुख़्सत कर

कुछ दे इसे रुख़्सत कर क्यूँ आँख झुका ली है

इब्न-ए-इंशा

कातिक का चाँद

चाँद कब से है सर-ए-शाख़-ए-सनोबर अटका

इब्न-ए-इंशा

दिल-आशोब

यूँ कहने को राहें मुल्क-ए-वफ़ा की उजाल गया

इब्न-ए-इंशा

ये सराए है

ये सराए है यहाँ किस का ठिकाना ढूँडो

इब्न-ए-इंशा

मीदू का तोता

तीन हमारी बहनें छोटी

इब्न-ए-इंशा

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए