बंदगी शायरी

बंदगी यूँ तो ख़ुदा के आगे समर्पण का नाम है लेकिन ख़ुदा की इस दुनिया में बंदगी के कई और क़िस्से प्रचालित हैं। इन्सान इसी बंदगी में अस्तित्व और स्वाभिमान के साथ जीने के लिए नित नए तरीक़े ढूंढता है। शायरों ने इस सिलसिले में बहुत सारे अशआर क़लमबन्द किए हैं। पेश है ऐसी ही बंदगी शायरी की एक झलकः