मातृ भाषा

गाली, गिन्ती, सर्गोशी और गंदा लतीफ़ा तो सिर्फ़ अपनी मादरी ज़बान में ही मज़ा देता है।

मुश्ताक़ अहमद यूसुफ़ी