बुढ़ापा

बुढ़ापे की शादी और बैंक की चौकीदारी में ज़रा फ़र्क़ नहीं। सोते में भी आँख खुली रखनी पड़ती है।

मुश्ताक़ अहमद यूसुफ़ी