noImage

आश्ना शाहजहाँपुरी

शेर 1

अभी बैठे नहीं हो तुम कि फिर दामन सँभाला है

तुम्हारी जाऊँ जाऊँ ने तो मेरा दम निकाला है

  • शेयर कीजिए