ग़ज़ल 11

शेर 2

भीड़ में ज़माने की हम सदा अकेले थे

वो भी दूर है कितना जो रग-ए-गुलू में है

ज़हर ज़िंदगानी का पी के अक़्ल आई है

दारू-ए-ग़म-ए-हस्ती तलख़ी-ए-सुबू में है

 

पुस्तकें 1

रुख़्सार-ए-हयात

 

 

 

"लंदन" के और शायर

  • साक़ी फ़ारुक़ी साक़ी फ़ारुक़ी
  • शोहरत बुख़ारी शोहरत बुख़ारी
  • अकबर हैदराबादी अकबर हैदराबादी
  • अख़्तर ज़ियाई अख़्तर ज़ियाई
  • बख़्श लाइलपूरी बख़्श लाइलपूरी
  • हिलाल फ़रीद हिलाल फ़रीद
  • फ़र्ख़न्दा रिज़वी फ़र्ख़न्दा रिज़वी
  • अब्दुल हफ़ीज़ साहिल क़ादरी अब्दुल हफ़ीज़ साहिल क़ादरी
  • बुलबुल काश्मीरी बुलबुल काश्मीरी
  • शबाना यूसुफ़ शबाना यूसुफ़