noImage

अज्ञात

कई जवाबों से अच्छी है ख़ामुशी मेरी

रोज़ सोचा है भूल जाऊँ तुझे

मुझ को छाँव में रखा और ख़ुद भी वो जलता रहा

पलकों की हद को तोड़ के दामन पे आ गिरा

जिन के किरदार से आती हो सदाक़त की महक

उस मुल्क की सरहद को कोई छू नहीं सकता

जो एक लफ़्ज़ की ख़ुशबू न रख सका महफ़ूज़

मिल के होती थी कभी ईद भी दीवाली भी

देखा हिलाल-ए-ईद तो तुम याद आ गए

सरहदें रोक न पाएँगी कभी रिश्तों को

तमाशा देख रहे थे जो डूबने का मिरे

जान लेनी थी साफ़ कह देते

दीवारें छोटी होती थीं लेकिन पर्दा होता था

चेहरा खुली किताब है उनवान जो भी दो

हमारे बाद अंधेरा रहेगा महफ़िल में

जो एक लफ़्ज़ की ख़ुशबू न रख सका महफ़ूज़

पत्थर है तेरे हाथ में या कोई फूल है

तुम मिटा सकते नहीं दिल से मिरा नाम कभी

पीता हूँ जितनी उतनी ही बढ़ती है तिश्नगी

तुम समुंदर की बात करते हो

ज़रा ठहरो हमें भी साथ ले लो कारवाँ वालो

मैं अपने साथ रहता हूँ हमेशा

जो जलाता है किसी को ख़ुद भी जलता है ज़रूर

हम ख़ुदा के कभी क़ाइल ही न थे

सुनते हैं ख़ुशी भी है ज़माने में कोई चीज़

रात ख़्वाब में मैं ने अपनी मौत देखी थी

ज़िंदगी यूँही बहुत कम है मोहब्बत के लिए

आता है यहाँ सब को बुलंदी से गिराना

आता है यहाँ सब को बुलंदी से गिराना

न कोई रंज का लम्हा किसी के पास आए