Altaf Hussain Hali's Photo'

अल्ताफ़ हुसैन हाली

1837 - 1914

उर्दू आलोचना के संस्थापकों में शामिल/महत्वपूर्ण पूर्वाधुनिक शायर/मिजऱ्ा ग़ालिब की जीवनी ‘यादगार-ए-ग़ालिब लिखने के लिए प्रसिद्ध

उर्दू आलोचना के संस्थापकों में शामिल/महत्वपूर्ण पूर्वाधुनिक शायर/मिजऱ्ा ग़ालिब की जीवनी ‘यादगार-ए-ग़ालिब लिखने के लिए प्रसिद्ध

ग़ज़ल 28

नज़्म 10

शेर 47

फ़रिश्ते से बढ़ कर है इंसान बनना

मगर इस में लगती है मेहनत ज़ियादा

  • शेयर कीजिए

जानवर आदमी फ़रिश्ता ख़ुदा

आदमी की हैं सैकड़ों क़िस्में

barbaric and human, angelic, divine

man, by many names, one may well define

barbaric and human, angelic, divine

man, by many names, one may well define

  • शेयर कीजिए

सदा एक ही रुख़ नहीं नाव चलती

चलो तुम उधर को हवा हो जिधर की

  • शेयर कीजिए

रुबाई 18

हास्य 1

 

लतीफ़े 4

 

ई-पुस्तक 175

अद्दीन-ओ-यूसर

 

1909

अफ़्कार-ए-हाली

 

1976

अहसन-उल-इंतिख़ाब

 

1936

अलताफ़ हुसैन हाली

 

 

अल्ताफ़ हुसैन हाली

तहक़ीक़ी-ओ-तन्क़ीदी जाइज़े

2009

Altaf Husain Hali : Himayat Se Inheraf Tak

 

2004

बच्चों के अल्ताफ़ हुसैन हाली

 

2011

Bachchon Ke Hali

 

1965

Bachchon Ke Hali

 

1983

Bachchon Ke Hali

 

 

वीडियो 9

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो

सत्या मुआसिर

सत्या मुआसिर

सत्या मुआसिर

अब वो अगला सा इल्तिफ़ात नहीं

फ़िरदौसी बेगम

आगे बढ़े न क़िस्सा-ए-इश्क़-ए-बुताँ से हम

मेहदी हसन

आलिम ओ जाहिल में क्या फ़र्क़ है

सत्या मुआसिर

मिट्टी का दिया

झुटपुटे के वक़्त घर से एक मिट्टी का दिया अज्ञात

है जुस्तुजू कि ख़ूब से है ख़ूब-तर कहाँ

अज्ञात

ऑडियो 8

कब्क ओ क़ुमरी में है झगड़ा कि चमन किस का है

कर के बीमार दी दवा तू ने

ख़ूबियाँ अपने में गो बे-इंतिहा पाते हैं हम

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित लेखक

  • शिबली नोमानी शिबली नोमानी समकालीन
  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब गुरु
  • इस्माइल मेरठी इस्माइल मेरठी समकालीन
  • आज़ाद अंसारी आज़ाद अंसारी शिष्य

Added to your favorites

Removed from your favorites