Faryad Aazar's Photo'

फ़रियाद आज़र

1956 - - | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 7

शेर 10

अदा हुआ क़र्ज़ और वजूद ख़त्म हो गया

मैं ज़िंदगी का देते देते सूद ख़त्म हो गया

बंद हो जाता है कूज़े में कभी दरिया भी

और कभी क़तरा समुंदर में बदल जाता है

इस तमाशे का सबब वर्ना कहाँ बाक़ी है

अब भी कुछ लोग हैं ज़िंदा कि जहाँ बाक़ी है

ई-पुस्तक 3

Khizan Mera Mausam

 

1994

Qiston Mein Guzarti Zindagi

 

2005

Intisab

Fariyad Aazar Number : Shumara Number-080

 

 

"दिल्ली" के और लेखक

  • कौसर मज़हरी कौसर मज़हरी
  • ग़ज़नफ़र ग़ज़नफ़र
  • याक़ूब यावर याक़ूब यावर
  • शमीम तारिक़ शमीम तारिक़
  • सलीम शहज़ाद सलीम शहज़ाद
  • अहमद मशकूर अहमद मशकूर
  • उनवान चिश्ती उनवान चिश्ती
  • कालीदास गुप्ता रज़ा कालीदास गुप्ता रज़ा
  • सलाम संदेलवी सलाम संदेलवी
  • अख़्तर ओरेनवी अख़्तर ओरेनवी