लेख 1

 

शेर 4

क्या हो सके हिसाब कि जब आगही कहे

अब तक तो राएगानी में सारा सफ़र किया

ये क्या कि बैठा है दरिया किनार-ए-दरिया पर

मैं आज बहता हुआ जा रहा हूँ पानी में

ये झाँक लेती है अंदर से आरज़ू-ख़ाना

हवा का क़द मिरी दीवार से ज़ियादा है

दर-ए-इम्कान की दस्तक मुझे भेजी गई है

मेरी क़िस्मत में तो मौजूद की दौलत नहीं है

ग़ज़ल 15

पुस्तकें 3

देख चुका मैं मौज मौज

 

2012

रेत पे बहता पानी

 

2010

उर्दू शायरी पर जंगों के असरात

 

 

 

ऑडियो 11

एक कत्बे की तलाश में

ख़्वाब-कदों से वापसी

चेहरे की गर्द

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"इस्लामाबाद" के और लेखक

  • मंशा याद मंशा याद
  • मुमताज़ मुफ़्ती मुमताज़ मुफ़्ती
  • मुख़्तार अहमद मुख़्तार अहमद
  • शहनाज़ परवीन शहनाज़ परवीन
  • ख़ालिदा हुसैन ख़ालिदा हुसैन
  • मोहम्मद आतिफ़ अलीम मोहम्मद आतिफ़ अलीम
  • रिफ़अत नाहीद सज्जाद रिफ़अत नाहीद सज्जाद
  • मुमताज़ शीरीं मुमताज़ शीरीं
  • एजाज़ रही एजाज़ रही
  • सय्यद माजिद शाह सय्यद माजिद शाह