Syed Shakeel Desnavi's Photo'

सय्यद शकील दस्नवी

1941 | ओड़ीशा, भारत

सय्यद शकील दस्नवी

ग़ज़ल 18

नज़्म 5

 

अशआर 7

रिश्ता रहा अजीब मिरा ज़िंदगी के साथ

चलता हो जैसे कोई किसी अजनबी के साथ

  • शेयर कीजिए

मौत के खूँ-ख़्वार पंजों में सिसकती है हयात

आज है इंसानियत की हर अदा सहमी हुई

  • शेयर कीजिए

गर्द-ए-सफ़र के साथ था वाबस्ता इंतिज़ार

अब तो कहीं ग़ुबार भी बाक़ी नहीं रहा

  • शेयर कीजिए

उस से बछड़ा तो यूँ लगा जैसे

कोई मुझ में बिखर गया साहब

  • शेयर कीजिए

'शकील' हिज्र के ज़ीनों पे रुक गईं यादें

इसी मक़ाम पर कर ठहर गई शब भी

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 8

 

"ओड़ीशा" के और लेखक

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए