Unwan Chishti's Photo'

उनवान चिश्ती

1935 - 2004 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 14

शेर 9

वो हादसे भी दहर में हम पर गुज़र गए

जीने की आरज़ू में कई बार मर गए

  • शेयर कीजिए

इश्क़ फिर इश्क़ है आशुफ़्ता-सरी माँगे है

होश के दौर में भी जामा-दरी माँगे है

आप से चूक हो गई शायद

आप और मुझ पे मेहरबाँ क्या ख़ूब

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 27

Akhbaron Ke Beech

 

1998

Aroozi Aur Fanni Masail

 

1985

Azadi Ke Baad Dehli Mein Urdu Ghazal

 

1989

Azadi Ke Bad Delhi Mein Urdu Ghazal

 

2009

चाँद चकोर और चाँदनी

 

1998

Harf-e-Barhana

 

1989

Islah Nama

Volume-001

1997

Makateeb-e-Ahsan

 

1983

मकातीब-ए-अहसन

खण्ड-001

1977

Manviyat Ki Talash

 

1983

ऑडियो 6

इश्क़ फिर इश्क़ है आशुफ़्ता-सरी माँगे है

किसी के फ़ैज़-ए-क़ुर्ब से हयात अब सँवर गई

जब ज़ुल्फ़ शरीर हो गई है

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"दिल्ली" के और लेखक

  • अहमद मशकूर अहमद मशकूर
  • ग़ज़नफ़र ग़ज़नफ़र
  • कौसर मज़हरी कौसर मज़हरी
  • शाकिर मेरठी शाकिर मेरठी
  • शमीम हनफ़ी शमीम हनफ़ी
  • क़मर रईस क़मर रईस
  • अतीक़ुल्लाह अतीक़ुल्लाह
  • इंद्र कुमार गुजराल इंद्र कुमार गुजराल
  • जगन्नाथ आज़ाद जगन्नाथ आज़ाद
  • ख़ुर्शीद अकरम ख़ुर्शीद अकरम