बलराज कोमल की 10 मशहूर नज़्में

अग्रणी आधुनिक शायर और कहानिकार, भारत में आधुनिक उर्दू नज़्म के विकास में महत्वपूर्ण यागदान, पद्मश्री से सम्मानित।

71
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

जंग

तीरगी में भयानक सदाएँ उठीं

बलराज कोमल

एक औरत

वो मौज इक मक़ाम से

बलराज कोमल

सबा के हाथ पीले हो गए

सबा के हाथ पीले हो गए

बलराज कोमल

दीवारें

कहते हैं सब लोग

बलराज कोमल

सालगिरह

दम-ए-उम्र-ए-रवाँ का दायरा

बलराज कोमल

परिंदा

परिंदा आसमाँ की नीलगूँ मेहराब के उस पार जाता है

बलराज कोमल

बुज़दिल

दयार-ए-बर्ग-ए-रा'ना से

बलराज कोमल

विसाल

तेरी क़ुर्बत की लज़्ज़त-ए-शीरीं

बलराज कोमल