आप जिन के क़रीब होते हैं

नूह नारवी

आप जिन के क़रीब होते हैं

नूह नारवी

MORE BY नूह नारवी

    आप जिन के क़रीब होते हैं

    वो बड़े ख़ुश-नसीब होते हैं

    those who are close to you

    are blessed it is true

    जब तबीअ'त किसी पर आती है

    मौत के दिन क़रीब होते हैं

    when heart holds someone dear

    the time of death is near

    मुझ से मिलना फिर आप का मिलना

    आप किस को नसीब होते हैं

    my meeting, that too you?

    to whom do you accrue

    ज़ुल्म सह कर जो उफ़ नहीं करते

    उन के दिल भी अजीब होते हैं

    who suffer yet don’t groan

    strange are their hearts be known

    इश्क़ में और कुछ नहीं मिलता

    सैकड़ों ग़म नसीब होते हैं

    'नूह' की क़द्र कोई क्या जाने

    कहीं ऐसे अदीब होते हैं

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    अज्ञात

    अज्ञात

    अज्ञात

    अज्ञात

    अज्ञात

    अज्ञात

    अज्ञात

    अज्ञात

    पंकज उदास

    पंकज उदास

    अज्ञात

    अज्ञात

    स्रोत:

    • Book: urdu kii chunii hu.ii gazale.n (Pg. 40)
    • Author: devendra issar
    • प्रकाशन: sahityaa parkaashak maalbaara delhi (1963)
    • संस्करण: 1963

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY

    Added to your favorites

    Removed from your favorites