ऐ जज़्बा-ए-दिल गर मैं चाहूँ हर चीज़ मुक़ाबिल आ जाए

बहज़ाद लखनवी

ऐ जज़्बा-ए-दिल गर मैं चाहूँ हर चीज़ मुक़ाबिल आ जाए

बहज़ाद लखनवी

MORE BY बहज़ाद लखनवी

    जज़्बा-ए-दिल गर मैं चाहूँ हर चीज़ मुक़ाबिल जाए

    मंज़िल के लिए दो गाम चलूँ और सामने मंज़िल जाए

    Mine heart's resolve if I so wish, all will be so nigh and clear

    I take two steps toward my goal, and straight ahead it would appear

    दिल की लगी चल यूँही सही चलता तो हूँ उन की महफ़िल में

    उस वक़्त मुझे चौंका देना जब रंग पे महफ़िल जाए

    O heartache, come,I do agree, to go and join her company

    there rouse me from my reverie, when it befits the atmosphere

    रहबर-ए-कामिल चलने को तय्यार तो हूँ पर याद रहे

    उस वक़्त मुझे भटका देना जब सामने मंज़िल जाए

    I'm set to venture forth mine guide, but by this you must abide

    from the path turn me aside, when the journey's end is near

    हाँ याद मुझे तुम कर लेना आवाज़ मुझे तुम दे लेना

    इस राह-ए-मोहब्बत में कोई दरपेश जो मुश्किल जाए

    yes, you may think of me and be, at liberty, call out for me

    if in these paths of love you see anything that makes you fear

    अब क्यूँ ढूँडूँ वो चश्म-ए-करम होने दे सितम बाला-ए-सितम

    मैं चाहता हूँ जज़्बा-ए-ग़म मुश्किल पस-ए-मुश्किल जाए

    why should I seek her kindness say, let her tortures pile away

    O grief for what I now do pray, is troubles even more severe

    इस जज़्बा-ए-दिल के बारे में इक मशवरा तुम से लेता हूँ

    उस वक़्त मुझे क्या लाज़िम है जब तुझ पे मिरा दिल जाए

    This counsel I do seek from you, about my inner feelings true

    What is it that I should do, when I am smitten by you dear

    बर्क़-ए-तजल्ली कौंध ज़रा क्या मुझ को भी मूसा समझा है

    मैं तूर नहीं जो जल जाऊँ जो चाहे मुक़ाबिल जाए

    O brilliant lightning tell me do you think me to be Moses too

    no matter what it may come to, I am not Tuur to burn or sear

    कश्ती को ख़ुदा पर छोड़ भी दे कश्ती का ख़ुदा ख़ुद हाफ़िज़ है

    मुश्किल तो नहीं इन मौजों में बहता हुआ साहिल जाए

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    नय्यरा नूर

    नय्यरा नूर

    कविता कृष्णामूर्ति

    कविता कृष्णामूर्ति

    बहज़ाद लखनवी

    बहज़ाद लखनवी

    RECITATIONS

    नय्यरा नूर

    नय्यरा नूर

    नय्यरा नूर

    ऐ जज़्बा-ए-दिल गर मैं चाहूँ हर चीज़ मुक़ाबिल आ जाए नय्यरा नूर

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY

    Added to your favorites

    Removed from your favorites