इब्न-ए-मरियम हुआ करे कोई

मिर्ज़ा ग़ालिब

इब्न-ए-मरियम हुआ करे कोई

मिर्ज़ा ग़ालिब

MORE BYमिर्ज़ा ग़ालिब

    इब्न-ए-मरियम हुआ करे कोई

    मेरे दुख की दवा करे कोई

    Let anyone the son of mary be

    How will I know till I find remedy

    शरअ' आईन पर मदार सही

    ऐसे क़ातिल का क्या करे कोई

    When sanctioned by laws of divinity

    For such a killer what can one decree?

    चाल जैसे कड़ी कमान का तीर

    दिल में ऐसे के जा करे कोई

    Like an arrow drawn her graceful gait

    In this heart embedded directly

    बात पर वाँ ज़बान कटती है

    वो कहें और सुना करे कोई

    My every word she contradicts alas

    If I could, but, speak and she agree

    बक रहा हूँ जुनूँ में क्या क्या कुछ

    कुछ समझे ख़ुदा करे कोई

    Lord I pray that no one comprehends

    All that I rant and rave in ecstasy

    सुनो गर बुरा कहे कोई

    कहो गर बुरा करे कोई

    If someone speaks ill pay no heed

    Stay silent if behave they sinfully

    रोक लो गर ग़लत चले कोई

    बख़्श दो गर ख़ता करे कोई

    Stop them if they step misguidedly

    Forgive them if they act mistakenly

    कौन है जो नहीं है हाजत-मंद

    किस की हाजत रवा करे कोई

    Is there anyone who's not in need?

    Then to whom does one do charity?

    क्या किया ख़िज़्र ने सिकंदर से

    अब किसे रहनुमा करे कोई

    What did Khizr for Alexander do?

    For guidance then who shall I go and see?

    जब तवक़्क़ो ही उठ गई 'ग़ालिब'

    क्यूँ किसी का गिला करे कोई

    When no expectations remain

    why complain of adversity?

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    फ़रीदा ख़ानम

    फ़रीदा ख़ानम

    शुमोना राय बिस्वास

    शुमोना राय बिस्वास

    कुंदन लाल सहगल

    कुंदन लाल सहगल

    इक़बाल बानो

    इक़बाल बानो

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY