लाई हयात आए क़ज़ा ले चली चले

शेख़ इब्राहीम ज़ौक़

लाई हयात आए क़ज़ा ले चली चले

शेख़ इब्राहीम ज़ौक़

MORE BY शेख़ इब्राहीम ज़ौक़

    लाई हयात आए क़ज़ा ले चली चले

    अपनी ख़ुशी आए अपनी ख़ुशी चले

    I came as life had brought me, as death takes me I go

    I came not of my own accord nor willingly I go

    हो उम्र-ए-ख़िज़्र भी तो हो मालूम वक़्त-ए-मर्ग

    हम क्या रहे यहाँ अभी आए अभी चले

    Had I lived as long as Khizr, then dying I would say

    where did I stay long enough, I came and went away

    हम से भी इस बिसात पे कम होंगे बद-क़िमार

    जो चाल हम चले सो निहायत बुरी चले

    on this chequered board would be few novices like me

    all the moves that I have made were hopeless surely

    बेहतर तो है यही कि दुनिया से दिल लगे

    पर क्या करें जो काम बे-दिल-लगी चले

    it’s better if the heart is not enmeshed in life, it's true

    what's to be done if without being attached one cannot do?

    लैला का नाक़ा दश्त में तासीर-ए-इश्क़ से

    सुन कर फ़ुग़ान-ए-क़ैस बजा-ए-हुदी चले

    in the desert Laila's camel does its zeal display

    Hearing Qais's plaintive cry it ventures forth that way

    नाज़ाँ हो ख़िरद पे जो होना है हो वही

    दानिश तिरी कुछ मिरी दानिश-वरी चले

    what's got to happen, will, don’t pride in your intellect

    your wisdom or my wisdom here, will be of no effect

    दुनिया ने किस का राह-ए-फ़ना में दिया है साथ

    तुम भी चले चलो यूँही जब तक चली चले

    जाते हवा-ए-शौक़ में हैं इस चमन से 'ज़ौक़'

    अपनी बला से बाद-ए-सबा अब कभी चले

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    शिशिर पारखी

    शिशिर पारखी

    इक़बाल बानो

    इक़बाल बानो

    कुंदन लाल सहगल

    कुंदन लाल सहगल

    बेगम अख़्तर

    बेगम अख़्तर

    हरिहरण

    हरिहरण

    RECITATIONS

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    शम्सुर रहमान फ़ारूक़ी

    शम्सुर रहमान फ़ारूक़ी

    नोमान शौक़

    लाई हयात आए क़ज़ा ले चली चले नोमान शौक़

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY