ज़िक्र उस परी-वश का और फिर बयाँ अपना

मिर्ज़ा ग़ालिब

ज़िक्र उस परी-वश का और फिर बयाँ अपना

मिर्ज़ा ग़ालिब

MORE BYमिर्ज़ा ग़ालिब

    ज़िक्र उस परी-वश का और फिर बयाँ अपना

    बन गया रक़ीब आख़िर था जो राज़-दाँ अपना

    the splendour of her beauty and the manner I narrate

    so my rival he's become, who was my confidant to date

    मय वो क्यूँ बहुत पीते बज़्म-ए-ग़ैर में या रब

    आज ही हुआ मंज़ूर उन को इम्तिहाँ अपना

    why in my rival's company, does she drink to excess?

    why today her prowess does she choose to demonstrate?

    मंज़र इक बुलंदी पर और हम बना सकते

    अर्श से उधर होता काश के मकाँ अपना

    if I only had possessed a home beyond the sky

    a spectacle at greater heights I could then create

    दे वो जिस क़दर ज़िल्लत हम हँसी में टालेंगे

    बारे आश्ना निकला उन का पासबाँ अपना

    it turns out that her sentry is closely known to me

    I'll laugh it off, however he may humiliate

    दर्द-ए-दिल लिखूँ कब तक जाऊँ उन को दिखला दूँ

    उँगलियाँ फ़िगार अपनी ख़ामा ख़ूँ-चकाँ अपना

    I would rather show to her, than write to her my pain

    bloodied is my pen, and fingers, in a wounded state

    घिसते घिसते मिट जाता आप ने अबस बदला

    नंग-ए-सज्दा से मेरे संग-ए-आस्ताँ अपना

    It would have vanished itself by rubbing of my brow

    you have needlessly replaced the stone upon your gate

    ता करे ग़म्माज़ी कर लिया है दुश्मन को

    दोस्त की शिकायत में हम ने हम-ज़बाँ अपना

    to stop his bearing tales to her my rival I've suborned

    in one voice, against our love, we both remonstrate

    हम कहाँ के दाना थे किस हुनर में यकता थे

    बे-सबब हुआ 'ग़ालिब' दुश्मन आसमाँ अपना

    when was I wise in any way, had any skills unique?

    for no reason, Gaalib, heaven's hostile to my fate

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    बेगम अख़्तर

    बेगम अख़्तर

    शकीला ख़ुरासानी

    शकीला ख़ुरासानी

    मोहम्मद रफ़ी

    मोहम्मद रफ़ी

    ज़िया मोहीउद्दीन

    ज़िया मोहीउद्दीन

    फ़रीदा ख़ानम

    फ़रीदा ख़ानम

    RECITATIONS

    ज़िया मोहीउद्दीन

    ज़िया मोहीउद्दीन

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    ज़िया मोहीउद्दीन

    ज़िक्र उस परी-वश का और फिर बयाँ अपना ज़िया मोहीउद्दीन

    स्रोत :
    • पुस्तक : Deewan-e-Ghalib Jadeed (Al-Maroof Ba Nuskha-e-Hameedia) (पृष्ठ 195)

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY