ग़ज़लें

1954

महत्वपूर्ण महिला कथाकार, संवेदनशील सामाजिक समस्याओं को अपनी कहानियों में प्रस्तुत करने के लिए पहचानी जाती हैं

1735 -1830

मीर तक़ी ' मीर ' के समकालीन अग्रणी शायर जिन्होंने भारतीय संस्कृति और त्योहारों पर नज्में लिखीं। होली , दीवाली , श्रीकृष्ण पर नज़्मों के लिए मशहूर