Font by Mehr Nastaliq Web

aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर

एक लड़की शादाँ

हफ़ीज़ जालंधरी

एक लड़की शादाँ

हफ़ीज़ जालंधरी

MORE BYहफ़ीज़ जालंधरी

    रोचक तथ्य

    This poem is a memorial of my dear daughter Irshad Batool ... I have been writing poems for children for some time. My eldest daughter Irshad Batool, whom I affectionately called "Shadan", used to read them with great interest. This is also one of the poems I wrote in October 1929, when I wrote several poems for the anniversary of the magazine "Phool". I was traveling at that time and my children were in Jalandhar where Shadan was reciting the Holy Quran in Madrasa Al-Banat. The purpose of this poem was just to tease her a bit. I wrote that she reads nothing. She spends the whole day in sports. The idea was that at first she would be happy to see this poem in her own name. When she reads it, she will read it and it will go mad. And in the same way, there will be a lot of laughter. When I returned home that evening, i learned that, Shadan, had fell in a well and was no more. And at the time when I was burying my daughter in front of my own eyes, I received the magazine 'Phool' in which that nazm was published.- Hafiz Jalandhari

    इक लड़की थी छोटी सी

    दुबली सी और मोटी सी

    नन्ही सी और मुन्नी सी

    बिल्कुल ही थन मथनी सी

    उस के बाल थे काले से

    सीधे घुँघराले से

    मुँह पर उस के लाली सी

    चट्टी सी मटियाली सी

    उस की नाक पकोड़ी सी

    नोकीली सी चौड़ी सी

    आँखें काली नीली सी

    सुर्ख़ सफ़ेद और पीली सी

    कपड़े उस के थैले से

    उजले से और मैले से

    ये लड़की थी भोली सी

    बी बी सी और गोली सी

    हर दम खेल था काम उस का

    शादाँ बी-बी नाम था उस का

    हँसती थी और रोती थी

    जागती थी और सोती थी

    हर दम उस की अम्माँ-जान

    खींचा करती उस के कान

    कहती थीं मकतब को जा

    खेलों में मत वक़्त गँवा

    अम्मी सब कुछ कहती थी

    शादाँ खेलती रहती थी

    इक दिन शादाँ खेल में थी

    आए उस के अब्बा जी

    वो लाहौर से आए थे

    चीज़ें वीज़ें लाए थे

    बॉक्स में थीं ये चीज़ें सब

    ख़ैर तमाशा देखो अब

    अब्बा ने आते ही कहा

    शादाँ कुछ पढ़ के सुना

    गुम थी इक मुद्दत से किताब

    क्या देती इस वक़्त जवाब

    दो बहनें थीं शादाँ की

    छोटी नन्ही मुन्नी सी

    नाम था मंझली का सीमाँ

    गुड़िया सी नन्ही नादाँ

    वो बोली अब्बा जी

    अब तो पढ़ती हूँ मैं भी

    बिल्ली है सी टी कैट

    चूहा है आर टी रैट

    मुँह माउथ है नाक है नोज़

    और गुलाब का फूल है रोज़

    मैं ने अब्बा जी देखा

    ख़ूब सबक़ है याद किया

    शादाँ ने उस वक़्त कहा

    मैं ने ही तो सिखाया था

    लेकिन अब्बा ने चुप चाप

    खोला बॉक्स को उठ कर आप

    इस में जो चीज़ें निकलें

    सारी सीमाँ को दे दें

    इक चीनी की गुड़िया थी

    इक जादू की पुड़िया थी

    इक नन्ही सी थी मोटर

    आप ही चलती थी फ़र-फ़र

    गेंदों का इक जोड़ा था

    इक लकड़ी का घोड़ा था

    इक सीटी थी इक बाजा

    एक था मिट्टी का राजा

    शादाँ को कुछ भी मिला

    यानी खेल की पाई सज़ा

    अब वो ग़ौर से पढ़ती है

    पूरे तौर से पढ़ती है

    RECITATIONS

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़,

    नोमान शौक़

    एक लड़की शादाँ नोमान शौक़

    यह पाठ नीचे दिए गये संग्रह में भी शामिल है

    ગુજરાતી ભાષા-સાહિત્યનો મંચ : રેખ્તા ગુજરાતી

    ગુજરાતી ભાષા-સાહિત્યનો મંચ : રેખ્તા ગુજરાતી

    મધ્યકાલથી લઈ સાંપ્રત સમય સુધીની ચૂંટેલી કવિતાનો ખજાનો હવે છે માત્ર એક ક્લિક પર. સાથે સાથે સાહિત્યિક વીડિયો અને શબ્દકોશની સગવડ પણ છે. સંતસાહિત્ય, ડાયસ્પોરા સાહિત્ય, પ્રતિબદ્ધ સાહિત્ય અને ગુજરાતના અનેક ઐતિહાસિક પુસ્તકાલયોના દુર્લભ પુસ્તકો પણ તમે રેખ્તા ગુજરાતી પર વાંચી શકશો

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY

    Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

    GET YOUR PASS
    बोलिए