बालदिवस शायरी

बच्चों की भावनाओं को दर्शाती हुई शायरी

जितनी बुरी कही जाती है उतनी बुरी नहीं है दुनिया

बच्चों के स्कूल में शायद तुम से मिली नहीं है दुनिया

निदा फ़ाज़ली