Aalok Shrivastav's Photo'

आलोक श्रीवास्तव

1971 | नोएडा, भारत

मशहूर शायर और गीतकार

मशहूर शायर और गीतकार

आलोक श्रीवास्तव के शेर

ही गए हैं ख़्वाब तो फिर जाएँगे कहाँ

आँखों से आगे उन की कोई रहगुज़र नहीं

ये सोचना ग़लत है कि तुम पर नज़र नहीं

मसरूफ़ हम बहुत हैं मगर बे-ख़बर नहीं

यही तो एक तमन्ना है इस मुसाफ़िर की

जो तुम नहीं तो सफ़र में तुम्हारा प्यार चले