noImage

आरिफ़ुद्दीन आजिज़

- 1763

देख दामन-गीर महशर में तिरे होवेंगे हम

ख़ूँ हमारा अपने दामन से क़ातिल छुड़ा