noImage

आतिश बहावलपुरी

हरियाणा से सम्बन्ध रखने वाले शायर और पत्रकार. साप्ताहिक ‘पैग़ाम’ के सम्पादक

हरियाणा से सम्बन्ध रखने वाले शायर और पत्रकार. साप्ताहिक ‘पैग़ाम’ के सम्पादक

289
Favorite

SORT BY

उमीद उन से वफ़ा की तो ख़ैर क्या कीजे

जफ़ा भी करते नहीं वो कभी जफ़ा की तरह

तुम्हें तो अपनी जफ़ाओं की ख़ूब दाद मिली

मिरी वफ़ाओं का मुझ को कोई सिला मिला

अपने चेहरे से जो ज़ुल्फ़ों को हटाया उस ने

देख ली शाम ने ताबिंदा सहर की सूरत

गिला मुझ से था या मेरी वफ़ा से

मिरी महफ़िल से क्यूँ बरहम गए वो

ज़बाँ पे शिकवा-ए-बे-मेहरी-ए-ख़ुदा क्यूँ है?

दुआ तो माँगिये 'आतिश' कभी दुआ की तरह

आप की हस्ती में ही मस्तूर हो जाता हूँ मैं

जब क़रीब आते हो ख़ुद से दूर हो जाता हूँ मैं

मुझे भी इक सितमगर के करम से

सितम सहने की आदत हो गई है

मस्लहत का यही तक़ाज़ा है

वो मानें तो मान जाओ तुम

मुख़ालिफ़ों को भी अपना बना लिया तू ने

अजीब तरह का जादू तिरी ज़बान में था

जो चाहते हो बदलना मिज़ाज-ए-तूफ़ाँ को

तो नाख़ुदा पे भरोसा करो ख़ुदा की तरह

चारासाज़ों की चारा-साज़ी से

और बीमार की दशा बिगड़ी

ग़म-ओ-अलम भी हैं तुम से ख़ुशी भी तुम से है

नवा-ए-सोज़ में तुम हो सदा-ए-साज़ में तुम

ये मय-ख़ाना है मय-ख़ाना तक़द्दुस उस का लाज़िम है

यहाँ जो भी क़दम रखना हमेशा बा-वज़ू रखना

ये सारी बातें हैं दर-हक़ीक़त हमारे अख़्लाक़ के मुनाफ़ी

सुनें बुराई हम किसी की ख़ुद किसी को बुरा कहें हम

दर-हक़ीक़त इत्तिसाल-ए-जिस्म-ओ-जाँ है ज़िंदगी

ये हक़ीक़त है कि अर्बाब-ए-हिमम के वास्ते

ख़ूगर-ए-लज़्ज़त-ए-आज़ार था इतना 'आतिश'

दर्द भी माँगा तो पहले से सिवा माँगा था