Abdul Hafiz Naeemi's Photo'

अब्दुल हफ़ीज़ नईमी

1911 | पीलीभीत, भारत

जिगर मुरादाबदी के शागिर्द, क्लासिकी रंग की शायरी के लिए जाने जाते हैं

जिगर मुरादाबदी के शागिर्द, क्लासिकी रंग की शायरी के लिए जाने जाते हैं

137
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

तुम्हारे संग-ए-तग़ाफ़ुल का क्यूँ करें शिकवा

इस आइने का मुक़द्दर ही टूटना होगा

सदा किसे दें 'नईमी' किसे दिखाएँ ज़ख़्म

अब इतनी रात गए कौन जागता होगा

खड़ा हुआ हूँ सर-ए-राह मुंतज़िर कब से

कि कोई गुज़रे तो ग़म का ये बोझ उठवा दे

मिरे ख़ुलूस पे शक की तो कोई वज्ह नहीं

मिरे लिबास में ख़ंजर अगर छुपा निकला

माज़ी के रेग-ज़ार पे रखना सँभल के पाँव

बच्चों का इस में कोई घरौंदा बना हो

मैं भी इस सफ़्हा-ए-हस्ती पे उभर सकता हूँ

रंग तो तुम मिरी तस्वीर में भर कर देखो

सज्दे के हर निशाँ पे है ख़ूँ सा जमा हुआ

यारो ये उस के घर का कहीं रास्ता हो

ये हाथ राख में ख़्वाबों की डालते तो हो

मगर जो राख में शोला कोई दबा निकला

हुस्न इक दरिया है सहरा भी हैं उस की राह में

कल कहाँ होगा ये दरिया ये भी तो सोचो ज़रा

मिरे ख़्वाबों की चिकनी सीढ़ियों पर

जाने किस का बुत टूटा पड़ा है