Abdul Hafiz Naeemi's Photo'

अब्दुल हफ़ीज़ नईमी

1911 | पीलीभीत, भारत

जिगर मुरादाबदी के शागिर्द, क्लासिकी रंग की शायरी के लिए जाने जाते हैं

जिगर मुरादाबदी के शागिर्द, क्लासिकी रंग की शायरी के लिए जाने जाते हैं

ग़ज़ल 7

शेर 10

तुम्हारे संग-ए-तग़ाफ़ुल का क्यूँ करें शिकवा

इस आइने का मुक़द्दर ही टूटना होगा

सदा किसे दें 'नईमी' किसे दिखाएँ ज़ख़्म

अब इतनी रात गए कौन जागता होगा

खड़ा हुआ हूँ सर-ए-राह मुंतज़िर कब से

कि कोई गुज़रे तो ग़म का ये बोझ उठवा दे

पुस्तकें 4

मर्सिया-ए-उनदुलुस

भाग-001

1935

Mehrab-e-Gul

 

1968

Rozan-e-Khwab

 

 

Rudad-e-Qafas

 

2009

 

संबंधित शायर

  • जिगर मुरादाबादी जिगर मुरादाबादी गुरु

"पीलीभीत" के और शायर

  • ज़काउद्दीन शायाँ ज़काउद्दीन शायाँ
  • शिव ओम मिश्रा अनवर शिव ओम मिश्रा अनवर