noImage

अब्दुल रहमान एहसान देहलवी

1769 - 1851 | दिल्ली, भारत

मुग़ल बादशाह शाह आलम सानी के उस्ताद, मीर तक़ी मीर के बाद के शायरों के समकालीन

मुग़ल बादशाह शाह आलम सानी के उस्ताद, मीर तक़ी मीर के बाद के शायरों के समकालीन

अब्दुल रहमान एहसान देहलवी के शेर

2.3K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

नमाज़ अपनी अगरचे कभी क़ज़ा हुई

अदा किसी की जो देखी तो फिर अदा हुई

गले से लगते ही जितने गिले थे भूल गए

वगर्ना याद थीं हम को शिकायतें क्या क्या

यारा है कहाँ इतना कि उस यार को यारो

मैं ये कहूँ यार है तू यार हमारा

ब-वक़्त-ए-बोसा-ए-लब काश ये दिल कामराँ होता

ज़बाँ उस बद-ज़बाँ की मुँह में और मैं ज़बाँ होता

आग इस दिल-लगी को लग जाए

दिल-लगी आग फिर लगाने लगी

याद तो हक़ की तुझे याद है पर याद रहे

यार दुश्वार है वो याद जो है याद का हक़

दिल-रुबा तुझ सा जो दिल लेने में अय्यारी करे

फिर कोई दिल्ली में क्या दिल की ख़बरदारी करे

किस को उस का ग़म हो जिस दम ग़म से वो ज़ारी करे

हाँ मगर तेरा ही ग़म आशिक़ की ग़म-ख़्वारी करे

कौन सानी शहर में इस मेरे मह-पारे का है

चाँद सी सूरत दुपट्टा सर पे यक-तारे का है

दिल में तुम हो जलाओ मिरे दिल को देखो

मेरा नुक़सान नहीं अपना ज़ियाँ कीजिएगा

चश्म-ए-मस्त उस की याद आने लगी

फिर ज़बाँ मेरी लड़खड़ाने लगी

शब पिए वो शराब निकला है

रात को आफ़्ताब निकला है

एक बोसे से मुराद-ए-दिल-ए-नाशाद तो दो

कुछ दो हाथ से पर मुँह से मिरी दाद तो दो

क्यूँ रुक रुक के आए दम मेरा

तुझ को देखा रुका रुका मैं ने

कुछ तुम्हें तर्स-ए-ख़ुदा भी है ख़ुदा की वास्ते

ले चलो मुझ को मुसलमानो उसी काफ़िर के पास

गर है दुनिया की तलब ज़ाहिद-ए-मक्कार से मिल

दीं है मतलूब तो इस तालिब-ए-दीदार से मिल

जो पूछा मैं ने दिल ज़ुल्फ़ों में जूड़े में कहाँ बाँधा

कहा जब चोर था अपना जहाँ बाँधा वहाँ बाँधा

डर अपने पीर से बी पीर पीर पीर कर

कि तेरे पीर के वा'दे ने मुझ को पीर किया

मज़े की बात तो ये है कि बे-मज़ा है वो दिल

तुम्हारी बे-मज़गी का जिसे मज़ा ना लगे

क्यूँ तू रोता है दिला आने दे रोज़-ए-वस्ल को

इस क़दर छेड़ूँगा उन को वो भी रो कर जाएँगे

बहुत से ख़ून-ख़राबे मचेंगे ख़ाना-ख़राब

यही है रंग अगर तेरे पान खाने का

पलकों से गिरे है अश्क टप टप

पट से वो लगा हुआ खड़ा है

क्यूँकर मय पियूँ मैं क़ुरआँ को देख ज़ाहिद

वहाँ वशरबू है आया ला-तशरबू आया

इतवार को आना तिरा मालूम कि इक उम्र

बे-पीर तिरे हम ने ही अतवार को देखा

चैन इस दिल को इक आन तिरे बिन आया

दिन गया रात हुई रात हुई दिन आया

आँखें मिरी फूटें तिरी आँखों के बग़ैर आह

गर मैं ने कभी नर्गिस-ए-बीमार को देखा

तनख़्वाह एक बोसा है तिस पर ये हुज्जतें

है ना-दहिंद आप की सरकार बे-तरह

अगर बैठा ही नासेह मुँह को सी बैठ

वगर्ना याँ से उठ बे-हया जा

नसीब उस के शराब-ए-बहिश्त होवे मुदाम

हुआ है जो कोई मूजिद शराब-ख़ाने का

पाया गाह क़ाबू आह मैं ने हाथ जब डाला

निकाला बैर मुझ से जब तिरे पिस्ताँ का मुँह काला

गरेबाँ चाक है हाथों में ज़ालिम तेरा दामाँ है

कि इस दामन तलक ही मंज़िल-ए-चाक-ए-गरेबाँ है

अपनी ना-फ़हमी से मैं और कुछ कर बैठूँ

इस तरह से तुम्हें जाएज़ नहीं एजाज़ से रम्ज़

मय-कदे में इश्क़ के कुछ सरसरी जाना नहीं

कासा-ए-सर को यहाँ गर्दिश है पैमाने की तरह

मिरी बात-चीत उस से 'एहसाँ' कहाँ है

उस का दहाँ है मेरी ज़बाँ है

अनार-ए-ख़ुल्द को तू रख कि मैं पसंद नहीं

कुचें वो यार की रश्क-ए-अनार वाइ'ज़

उल्फ़त में तेरा रोना 'एहसाँ' बहुत बजा है

हर वक़्त मेंह का होना ये रहमत-ए-ख़ुदा है

वो आग लगी पान चबाए से कसू की

अब तक नहीं बुझती है बुझाए से कसू की

तिरी आन पे ग़श हूँ हर आन ज़ालिम

तू इक आन लेकिन याँ आन निकला

फ़िलफ़िल-ए-ख़ाल-ए-मलाहत के तसव्वुर में तिरे

चरचराहट है कबाब-ए-दिल-ए-बिरयान में क्या

मेरी बात को पूछे है देखे है इधर

एक दिन ये किया आशिक़-ए-बीमार कि तू

ख़ाक आब-ए-गिर्या से आतिश बुझे नाचार हम

जानिब-ए-कू-ए-बुताँ जूँ बाद-ए-सरसर जाएँगे

जाँ-कनी पेशा हो जिस का वो लहक है तेरा

तुझ पे शीरीं है 'ख़ुसरव' का फ़रहाद का हक़

मोहतसिब भी पी के मय लोटे है मयख़ाने में आज

हाथ ला पीर-ए-मुग़ाँ ये लौटने की जाए है

ग़ुंचा को मैं ने चूमा लाया दहन को आगे

बोसा मुझ को देवे वो नुक्ता-याब क्यूँकर

आह-ए-पेचाँ अपनी ऐसी है कि जिस के पेच को

पेचवाँ नीचा भी तेरा देख कर ख़म खाए है

उस लब-ए-बाम से सरसर-ए-फुर्क़त तू बता

मिस्ल तिनके के मिरा ये तन-ए-लाग़र फेंका

तो भी उस तक है रसाई मुझे एहसाँ दुश्वार

दाम लूँ गर पर-ए-जिब्रील बरा-ए-पर्वाज़

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए