This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
kaali raat ke sehraon me noor se para likha tha

Salman Ahmad's poetry is the assimiliation of various shades of life. The griefness of the deteriorated human values has never been penned so beautifully ever. This Pakistani poet who has spent a long part of his life in Canada can be seen reciting his ghazals for Rekhta Studio at India Islamic Cultural Centre. अहमद सलमान

काली रात के सहराओं में नूर-सिपारा लिक्खा था

अहमद सलमान

जो दिख रहा उसी के अंदर जो अन-दिखा है वो शाइरी है

अहमद सलमान

जो हम पे गुज़रे थे रंज सारे जो ख़ुद पे गुज़रे तो लोग समझे

अहमद सलमान

शबनम है कि धोका है कि झरना है कि तुम हो

अहमद सलमान

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

  • kaali raat ke sehraon me noor se para likha tha

    kaali raat ke sehraon me noor se para likha tha अहमद सलमान

  • काली रात के सहराओं में नूर-सिपारा लिक्खा था

    काली रात के सहराओं में नूर-सिपारा लिक्खा था अहमद सलमान

  • जो दिख रहा उसी के अंदर जो अन-दिखा है वो शाइरी है

    जो दिख रहा उसी के अंदर जो अन-दिखा है वो शाइरी है अहमद सलमान

  • जो हम पे गुज़रे थे रंज सारे जो ख़ुद पे गुज़रे तो लोग समझे

    जो हम पे गुज़रे थे रंज सारे जो ख़ुद पे गुज़रे तो लोग समझे अहमद सलमान

  • शबनम है कि धोका है कि झरना है कि तुम हो

    शबनम है कि धोका है कि झरना है कि तुम हो अहमद सलमान