noImage

एहसान शाहजहाँपुरी

1857 - 1914

एहसान शाहजहाँपुरी

शेर 1

इस को सोचिए कि सितम या करम हुआ

ख़ंजर उठाइए सर-ए-तस्लीम ख़म हुआ

  • शेयर कीजिए