ग़ज़ल 19

शेर 4

कोई इलाज-ए-ग़म-ए-ज़िंदगी बता वाइज़

सुने हुए जो फ़साने हैं फिर सुना मुझे

आस डूबी तो दिल हुआ रौशन

बुझ गया दिल तो दिल के दाग़ जले

दफ़अतन आँधियों ने रुख़ बदला

ना-गहाँ आरज़ू के बाग़ जले

भुला चुके हैं ज़मीन ज़माँ के सब क़िस्से

सुख़न-तराज़ हैं लेकिन ख़ला में रहते हैं

"लंदन" के और शायर

  • साक़ी फ़ारुक़ी साक़ी फ़ारुक़ी
  • बख़्श लाइलपूरी बख़्श लाइलपूरी
  • ज़ियाउद्दीन अहमद शकेब ज़ियाउद्दीन अहमद शकेब
  • सफ़दर हमदानी सफ़दर हमदानी
  • जौहर ज़ाहिरी जौहर ज़ाहिरी
  • आमिर अमीर आमिर अमीर
  • यशब तमन्ना यशब तमन्ना
  • हिलाल फ़रीद हिलाल फ़रीद
  • मुबारक सिद्दीक़ी मुबारक सिद्दीक़ी
  • अब्दुल हफ़ीज़ साहिल क़ादरी अब्दुल हफ़ीज़ साहिल क़ादरी