noImage

अली अहमद रिफ़अत

1916 - 1985

शेर 1

दास्तान-ए-हुस्न जब फैली तो ला-महदूद थी

और जब सिमटी तो तेरा नाम हो कर रह गई

  • शेयर कीजिए