Ali Zaryoun's Photo'

अली ज़रयून

1983 | फ़ैसलाबाद, पाकिस्तान

नौजवान पाकिस्तानी शायर, मुशायरों में लोकप्रिय

नौजवान पाकिस्तानी शायर, मुशायरों में लोकप्रिय

बात भी कीजिए देख भी लीजिए

देख भी लीजिए बात भी कीजिए

अस्र के वक़्त मेरे पास बैठ

मुझ पे इक साँवली का साया है

अदा-ए-इश्क़ हूँ पूरी अना के साथ हूँ मैं

ख़ुद अपने साथ हूँ यानी ख़ुदा के साथ हूँ मैं

सुकूत-ए-शाम का हिस्सा तू मत बना मुझ को

मैं रंग हूँ सो किसी मौज में मिला मुझ को