Ameer Khusrau's Photo'

अमीर ख़ुसरो

1253 - 1325 | दिल्ली, भारत

उर्दू / हिंदवी के पहले शायर। मशहूर सूफ़ी हज़रत निज़ामुद्दीन औलिया के शागिर्द और संगीतज्ञ। तबला और सितार जैसे साज़ों का अविष्कार किया। अपनी ' पहेलियों ' के लिए प्रसिद्ध जो भारतीय लोक साहित्य का हिस्सा हैं। ' ज़े हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल ' जैसी ग़ज़ल लिखी जो उर्दू / हिंदवी शायरी का पहला नमूना है।

उर्दू / हिंदवी के पहले शायर। मशहूर सूफ़ी हज़रत निज़ामुद्दीन औलिया के शागिर्द और संगीतज्ञ। तबला और सितार जैसे साज़ों का अविष्कार किया। अपनी ' पहेलियों ' के लिए प्रसिद्ध जो भारतीय लोक साहित्य का हिस्सा हैं। ' ज़े हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल ' जैसी ग़ज़ल लिखी जो उर्दू / हिंदवी शायरी का पहला नमूना है।

अमीर ख़ुसरो की ई-पुस्तक

अमीर ख़ुसरो की पुस्तकें

62

Afzal-ul-Fawaid

Volume-001,002

1888

Ameer Khusrau Ka Hindavi Kalam

Ma Nuskha-e-Barlin Zakhira-e-Sprenger

2008

Intikhab-e-Ghazliyat-e-Khusro

Kulliyat-e-Ghazaliyat-e-Khusrau

Volume-004

1975

Masnavi Majnun Laila

1917

Nama-e-Askandari

Sikandar Nama-e-Khusravi

1914

Qiranus Saadain

1918

The Nuh Sipihr of Amir Khusrau

1949

नामा-ए-सिकंदरी

1914

लूअाली उमाँ

1918

अमीर ख़ुसरो पर पुस्तकें

81

Ameer Khusrau

1975

Amir Khusrau

1975

Amir Khusrau

Memorial Volume

1975

Hazrat Ameer Khusro Aur Tonk

1981

Khusrav-e-Aqlim-e-Sukhan

2015

Kulliyat-e-Qasaed-e-Khusrau

खण्ड-002

1977

अमीर ख़ुसरो

1968

ख़ुसरो शनासी

1975

हज़रत अमीर ख़ुसरो और टोंक

1981

हयात-ए-ख़ुसरो

1909

अमीर ख़ुसरो द्वारा संकलित पुस्तकें

1

Rahat-ul-Muhibbeen

Part-002

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए