aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
noImage

अमीर नहटौरी

1968 | बिजनौर, भारत

अमीर नहटौरी

ग़ज़ल 5

 

अशआर 7

दर्द ने ली अंगड़ाई ऐसी

ज़ख़्म का इक इक टाँका टूटा

  • शेयर कीजिए

फ़ुर्क़त की शब ख़ामोशियाँ ज़ख़्मों की फिर अंगड़ाइयाँ

आँखें जब अपनी नम हुईं बेचारगी अच्छी लगी

  • शेयर कीजिए

वक़ार-ए-शौक़ से गिर कर भी वार मत करना

मिले जो ज़ख़्मी परिंदा शिकार मत करना

  • शेयर कीजिए

होगी चारागर तिरी तदबीर कारगर

हम को ख़ुद अपने ज़ख़्मों की चाहत है आज-कल

  • शेयर कीजिए

दिल के ज़ख़्मों को सजाने का हुनर रखता हूँ

मुस्तक़िल मैं तिरी यादों का सफ़र रखता हूँ

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

 

"बिजनौर" के और शायर

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए