Amit Sharma Meet's Photo'

अमित शर्मा मीत

1989 | बरेली, भारत

ग़ज़ल 22

शेर 22

कई दिन से शरारत ही नहीं की

मिरे अंदर का बच्चा लापता है

मैं जितनी और पीता जा रहा हूँ

नशा उतना उतरता जा रहा है

मैं कहानी में नया मोड़ भी ला सकता था

मैं ने किरदार को आँसू में भिगोया ही नहीं

"बरेली" के और शायर

  • नसीम देहलवी नसीम देहलवी
  • हकीम आग़ा जान ऐश हकीम आग़ा जान ऐश
  • आर पी शोख़ आर पी शोख़
  • मारूफ़ देहलवी मारूफ़ देहलवी
  • मुश्ताक़ नक़वी मुश्ताक़ नक़वी
  • माहिर अब्दुल हई माहिर अब्दुल हई
  • सौरभ शेखर सौरभ शेखर
  • अजीत सिंह हसरत अजीत सिंह हसरत
  • रख़शां हाशमी रख़शां हाशमी
  • असग़र मेहदी होश असग़र मेहदी होश