noImage

बशीर दुर्रानी

1902 | कराची, पाकिस्तान

दुश्मन-ए-दिल ही नहीं दुश्मन-ए-जाँ होता है

उफ़ वो एहसास जो पीरी में जवाँ होता है