Bhartendu Harishchandra's Photo'

भारतेंदु हरिश्चंद्र

1850 - 1885 | बनारस, भारत

हिंदी के नवीकरण के प्रचारक, क्लासिकी शैली में अपनी उर्दू ग़ज़ल के लिए प्रसिद्ध

हिंदी के नवीकरण के प्रचारक, क्लासिकी शैली में अपनी उर्दू ग़ज़ल के लिए प्रसिद्ध

ग़ज़ल 19

शेर 20

जाए दिल आप का भी और किसी पर

देखो मिरी जाँ आँख लड़ाना नहीं अच्छा

ये चार दिन के तमाशे हैं आह दुनिया के

रहा जहाँ में सिकंदर और जम बाक़ी

गुलाबी गाल पर कुछ रंग मुझ को भी जमाने दो

मनाने दो मुझे भी जान-ए-मन त्यौहार होली में

रुबाई 2

 

पुस्तकें 2

अज़ीम हिंदी दानिश्वर: भारतेंदु हरीश चन्द्र का उर्दू कलाम

 

2004

Hindustani Adab Ke Memar: Bharatendu Harishchandra

 

1984

 

चित्र शायरी 2

दिल आतिश-ए-हिज्राँ से जलाना नहीं अच्छा ऐ शोला-रुख़ो आग लगाना नहीं अच्छा किस गुल के तसव्वुर में है ऐ लाला जिगर-ख़ूँ ये दाग़ कलेजे पे उठाना नहीं अच्छा आया है अयादत को मसीहा सर-ए-बालीं ऐ मर्ग ठहर जा अभी आना नहीं अच्छा सोने दे शब-ए-वस्ल-ए-ग़रीबाँ है अभी से ऐ मुर्ग़-ए-सहर शोर मचाना नहीं अच्छा तुम जाते हो क्या जान मिरी जाती है साहिब ऐ जान-ए-जहाँ आप का जाना नहीं अच्छा आ जा शब-ए-फ़ुर्क़त में क़सम तुम को ख़ुदा की ऐ मौत बस अब देर लगाना नहीं अच्छा पहुँचा दे सबा कूचा-ए-जानाँ में पस-ए-मर्ग जंगल में मिरी ख़ाक उड़ाना नहीं अच्छा आ जाए न दिल आप का भी और किसी पर देखो मिरी जाँ आँख लड़ाना नहीं अच्छा कर दूँगा अभी हश्र बपा देखियो जल्लाद धब्बा ये मिरे ख़ूँ का छुड़ाना नहीं अच्छा ऐ फ़ाख़्ता उस सर्व-ए-सही क़द का हूँ शैदा कू-कू की सदा मुझ को सुनाना नहीं अच्छा

 

वीडियो 7

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायरी वीडियो
A Short Profile of Bhartendu Harishchandra

Bharatendu Harishchandra

Bharatendu Harishchandra - father of modern Hindi writers

"बनारस" के और शायर

  • हफ़ीज़ बनारसी हफ़ीज़ बनारसी
  • नज़ीर बनारसी नज़ीर बनारसी
  • कबीर अजमल कबीर अजमल
  • सिराजुल आरिफ़ीन सिराज सिराजुल आरिफ़ीन सिराज
  • दीपक प्रजापति ख़ालिस दीपक प्रजापति ख़ालिस
  • आमिर सूक़ी आमिर सूक़ी
  • कबीर कबीर
  • महमूद आलम महमूद आलम