noImage

चूँचाल सियालकोटी

सियालकोट, पाकिस्तान

साठ के दशक में उभरने वाले अहम मज़ाहिया (हास्य) शायर

साठ के दशक में उभरने वाले अहम मज़ाहिया (हास्य) शायर

नोट दिखला कर उसे हम खेंच लाए अपने हाँ

हम कहते थे कि पैसा क़ाज़ी-उल-हाजात है