noImage

फ़ाएज़ देहलवी

1690 - 1737 | दिल्ली, भारत

मीर से पहले के मशहूर शायर, उर्दू शायरी के संस्थापक

मीर से पहले के मशहूर शायर, उर्दू शायरी के संस्थापक

127
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

मुझ को औरों से कुछ नहीं है काम

तुझ से हर दम उमीद-वारी है

वो तमाशा खेल होली का

सब के तन रख़्त-ए-केसरी है याद

गुड़ सीं मीठा है बोसा तुझ लब का

इस जलेबी में क़ंद शक्कर है

तुझ को है हम से जुदाई आरज़ू

मेरे दिल में शौक़ है दीदार का

तेरे मिलाप बिन नहीं 'फ़ाएज़' के दिल को चैन

ज्यूँ रूह हो बसा है तू उस के बदन में

तुझ बदन पर जो लाल सारी है

अक़्ल उस ने मिरी बिसारी है

जब सजीले ख़िराम करते हैं

हर तरफ़ क़त्ल-ए-आम करते हैं

जो कहिए उस के हक़ में कम है बे-शक

परी है हूर है रूह-उल-अमीं है

हुस्न बे-साख़्ता भाता है मुझे

सुर्मा अँखियाँ में लगाया करो

मैं ने कहा कि घर चलेगी मेरे साथ आज

कहने लगी कि हम सूँ कर बात तू बुरी

अब्र का साया सब्ज़ा राह का

जान-ए-मन रथ की सवारी याद है

रात दिन तू रहे रक़ीबाँ-संग

देखना तेरा मुझ मुहाल हुआ

उश्शाक़ जाँ-ब-कफ़ खड़े हैं तेरे आस-पास

दिल-रुबा-ए-ग़ारत-ए-जाँ अपने फ़न में

करे रश्क-ए-गुलिस्ताँ दिल को 'फ़ाएज़'

मिरा साजन बहार-ए-अंजुमन है

मुँह बाँध कर कली सा रह मेरे पास तू

ख़ंदाँ हो कर के गुल की सिफ़त टुक सुख़न में

ख़ूब-रू आश्ना हैं 'फ़ाएज़' के

मिल सभी राम राम करते हैं

ख़ाक सेती सजन उठा के किया

इश्क़ तेरे ने सर-बुलंद मुझे

मैं गिरफ़्तार हूँ तिरे मुख पर

जग में नई और कुछ पसंद मुझे

पानी होवे आरसी उस मुख को देख

ज़ोहरा उसे क्या कि इक़ामत करे

वही क़द्र 'फ़ाएज़' की जाने बहुत

जिसे इश्क़ का ज़ख़्म कारी लगे