Fareed Javed's Photo'

फ़रीद जावेद

1927 - 1977 | कराची, पाकिस्तान

गुफ़्तुगू किसी से हो तेरा ध्यान रहता है

टूट टूट जाता है सिलसिला तकल्लुम का

तरब का रंग मोहब्बत की लौ नहीं देता

तरब के रंग में कुछ दर्द भी समो लें आज

हमें भी अपनी तबाही पे रंज होता है

हमारे हाल-ए-परेशाँ पे मुस्कुराओ नहीं